Tag: noida news

AVJ Heights के डायरेक्टर हुए गिरफ्तार

AVJ Heights के डायरेक्टर हुए गिरफ्तार

ग्रेटर नोएडा में होम बायर्स के साथ धोखाधड़ी करने के मामले में थाना सूरजपुर पुलिस ने एवीजे हाइट्स बिल्डर के डायरेक्टर विनय जैन और विपिन अग्रवाल को गिरफ्तार किया है। काफी दिनों से पुलिस इनकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही थी।

सोसाइटी के लोगों ने आरोप लगाया था कि विनय जैन ने अपने बाउंसर के साथ मारपीट की थी। जिसके बाद पुलिस में शिकायत किये जाने के बाद भी पुलिस ने कोई एक्सन नहीं लिया और न ही किसी तरह की कार्रवाई की। सोसाइटी के लोगों ने आरोप लगाया था कि सपा सरकार इन बिल्डरों को संरक्षण दे रहा है……..आगे पढ़ें

ग्रेटर नोएडा के बिल्डरों के खिलाफ सीबीआई कर सकती है जांच

ग्रेटर नोएडा के बिल्डरों के खिलाफ सीबीआई कर सकती है जांच

ग्रेटर नोएडा : ग्रेनो वेस्ट में बिल्डरों को आवंटित भूखंडों के घोटाले की जांच कराने की मांग को लेकर आम आदमी पार्टी के पदाधिकारियों ने सोमवार को कलेक्ट्रेट पर धरना दिया। जिलाधिकारी के नाम एक ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट एके सिंह को सौंपा।

प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व कर रहे आप यूथ बिग के राहुल सैफी ने बताया कि प्राधिकरण क्षेत्र के तहत ग्रेनो वेस्ट में अरबों रुपयों के बिल्डरों को जमीन आवंटन में घोटाले व बिल्डिंग बाइलॉज में मनमाफिक संशोधन……आगे पढ़ें

करोड़ों का घोटाला करके भागा बिल्डर – सड़क पर उतरे बायर्स

करोड़ों का घोटाला करके भागा बिल्डर – सड़क पर उतरे बायर्स

ग्रेटर नोएडा : सूरजपुर साईट – सी के एक बिल्डर पर बायर्स के पैसे लेकर भागने का आरोप है। आरोप है कि बिल्डर 350 बायर्स के लगभग 100 करोड़ रुपये की रकम लेकर फरार हो गया है। बिल्डर ने 2014 में फ्लैट का पजेशन देने का वादा किया है, लेकिन अभी तक साइट पर सिर्फ civil structue  वो भी आधा-अधूरा खड़ा है। बायर्स का कहना है कि बिल्डर अपने किसी पते पर नहीं मिल रहा है। आज लगभग 100 के करीब बायर्स ने कलक्ट्रेट सूरजपुर में बिल्डर खिलाफ प्रदर्शन करते हुए न्याय की गुहार लगाई।

यूपीएसएडीसी ने एलप्पाईंन रियलटेक को साईट – सी में बिल्डर ३ एकड़ प्लॉट अलॉट किया था। बिल्डर ने इस पर वर्ष 2012 में “EKDANT FNG” प्रोजेक्ट लॉन्च किया था। इसमें 5 टावर बनाए जाने थे। बायर राजेश कुमार, राजीव कुमार, अंकित सिरोही, सुनील अग्रवाल आदि का आरोप है कि बिल्डर ने लुभावने विज्ञापन देकर 2012 में फ्लैटों की बुकिंग करने के बाद साल अंत में साइट पर निर्माण कार्य शुरू कर दिया……आगे पढ़ें

ग्रेटर नोएडा पुलिस का दावा है कि वह बायर्स के हितों के लिए बिल्डर्स पर अंकुश लगाएगी

ग्रेटर नोएडा पुलिस का दावा है कि वह बायर्स के हितों के लिए बिल्डर्स पर अंकुश लगाएगी

ग्रेटर नोएडा: एक तरफ पुलिस अपने ट्विटर हैंडल से कह रही है कि रियल एस्टेट के मामलों की शिकायत क्रेडाई से करें, वहीं ग्रेटर नोएडा में पुलिस का दावा है कि वह बायर्स के हितों के लिए बिल्डर्स पर अंकुश लगाएगी। पुलिस बिल्डरों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करेगी और सभी मामलों की रिपोर्ट शासन को भेजेगी।

एस. एन. वर्मा नामक शख्स ने रविवार को अपने ट्विटर हैंडल से सीएम योगी आदित्यनाथ, सीएम ऑफिस, यूपी पुलिस और डीजीपी को ट्वीट कर बिल्डर्स की मनमानी की जानकारी दी। उन्होंने इन सबको 19 ट्वीट करके आरोप लगाया है कि बिल्डर बायर्स के साथ चीटिंग कर रहे हैं। पुलिस उनके खिलाफ रिपोर्ट नहीं लिखती। आरोप लगाया गया है कि पुलिस और बिल्डर मिले हुए हैं। लिहाजा बायर न्याय के लिए भटक रहे हैं। उन्होंने सीएम से मांग की है कि पुलिस को कार्रवाई के लिए निर्देश दिए जाएं। उन्हें नोएडा पुलिस पर भरोसा नहीं है।

इसके बाद ट्विटर पर ही यूपी पुलिस की ओर से नोएडा पुलिस को आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए गए। नोएडा पुलिस ने ट्वीट कर एस. एन. वर्मा को बिल्डरों की संस्था क्रेडाई में शिकायत करने की सलाह दे दी। इससे गुस्साए एस. एन. वर्मा ने ट्वीट कर सवाल उठाया कि फ्रॉड की शिकायत बिल्डरों की संस्था क्रेडाई से क्यों की जाए? उन्होंने क्रेडाई की विश्वसनीयता पर भी सवाल उठाया। साथ ही ट्वीट कर सीएम योगी से कहा कि पुलिस बिल्डरों को बचाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने पुलिस व बिल्डरों का गठजोड़ तोड़ने की मांग की है……आगे पढ़ें

किसी और की जमीन पर बना के बेच दिए कॉस्मिक ग्रुप ने फ्लैट

किसी और की जमीन पर बना के बेच दिए कॉस्मिक ग्रुप ने फ्लैट

नोएडा: कॉस्मिक बिल्डर के फर्जीवाड़े से जुडी एक और खबर का खुलासा तब हुआ जब एक ग्राहक अपनी शिकायत लेके नोएडा प्राधिकरण के दफ्तर पंहुचा और पता चला की जिस जमीन पर उसका फ्लैट बना है दरअसल वह जमीन किसी आई टी कंपनी के नाम पर आवंटित है |

प्राधिकरण के नज़र में आते ही अब इस मामले पर जांच शुरू कर दी गई है अधिकारीयों की माने तो इस मामले मे दोनों कंपनियों पर कड़ी करवाई हो सकती है | पूरा मामला नोएडा सेक्टर-154 स्थित प्रोजेक्ट का है जो सन 2008 मे एक आई टी कंपनी को अलोट की गई थी जिसका कुल भूखंड 20 हज़ार स्क्वायर मीटर है |

प्राधिकरण के अनुसार दिव्यज्योति ने काफी महीनो से अपनी बकाया राशी का भुगतान नहीं किया है जो की तक़रीबन 8 करोड़ है..……Read more

बिल्डरों पर गिरी नोएडा प्राधिकरण की गाज

बिल्डरों पर गिरी नोएडा प्राधिकरण की गाज

ग्रेटर नोएडा: ग्राहकों को समय पर फ्लैट ना दिए जाने के मसले पर कदा रुख इख्तियार करते हुए ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने 7 बिल्डरों को अंतिम कारण बताओ नोटिस जरी कर दिया है और 15 दिनों के भीतर इसका जवाब मांगा है |

सही एवं संतोषजनक जवाब न मिलने पर प्राधिकरण आवंटित जमीन वापस मांग सकता है और बिल्डरों की जमा धन राशी जब्त कर सकता है |

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने 2010 में 7 बिल्डरों को जमीं आवंटित की थी और इस हिसाब से builder को पांच वर्ष के अन्दर ग्राहकों को कब्ज़ा देना था पर फ्लैट देना तो दूर कई प्रोजेक्ट्स पर अभी तो काम भी शुरू नहीं हुआ……Read more

 

‘Nimi Homes’ sealed by Noida Authority

‘Nimi Homes’ sealed by Noida Authority

Screenshot - 3_11_2017 , 12_26_56 PM.pngNOIDA: Noida Authority on Thursday has said that it will demolish an unauthorized building, which houses five floors, in sector 80 of the city. The Authority has issued a notice to the developer constructing uilding in the area adjoining Nangla Charandas village, located in phase-II of Noida. The developer has been ordered to remove the unauthorized construction within seven days failing which the building will be razed to the ground by the Authority.

Authority officials said that the building has been constructed on Noida’s notified land. “No one other than Noida Authority can give permission for the construction on this land and no permission has been granted by us to the building built on Khasra numbers 115 and 128,” B.K Singh, project engineer, Work Circle-7, Noida Authority, who led the team for sealing the premises, told TOI. “We have been sending notices to the builder since July 2015 to stop all construction, but the developer has not paid any heed,” he added.

Singh further said that the developer, M/s Nimi Homes Private Limited has been served notice for undertaking the illegal construction. “We have asked them to stop all constructions with immediate effect and remove the structure they have constructed till now,” Singh said. “They have been given a seven day notice. If they fail to remove the illegal construction, our teams will move in, demolish the structure, raze it to the ground and also charge a fee for removing it,” Singh warned.

Officials further said that the builder had constructed five floors, which included 106 residential flats and about 26 shops on the ground floor. “100 flats were vacant, while six units were occupied. We have asked the occupants of the six units to vacate the premises immediately. Currently, the finishing is being carried out of the building,” said Singh. On being quizzed about the fate of the homebuyers of the six units, Singh said that we have asked them to seek judicial reprieve.

When TOI contacted the builder, a representative told TOI that they were not aware of any sealing being carried out by Noida Authority and disconnected the phone. Repeated attempts thereafter elicited no further response.

source – ETRealty

**For more updates follow us!**

social-icon-png           twitter-312464_960_720         linkedin_logo_initials         pinterest-logo         google-plus-circle-icon-png         instagram-1675670_960_720         Youtube.png         rr